योग करते समय सावधानियाँ और नियम (Precautions and rules while doing yoga)

https://www.yogadeyy.com/2020/01/precautions-and-rules-while-doing-yoga

योगाभ्याश शुरू करने से पहले साधकों को काफी नियमो और सावधानियों का ध्यान रखना पड़ता है, अतः प्रत्येक साधक को निम्नलिखत बातों पर ध्यान अवश्य देना चाहिए  ! जैसे कि हम जब किसी मकान का निर्माण करते हैं, तो उसकी नींव पर विशेष ध्यान देकर उसको मजबूत बनाते हैं ! ताकि उस पर खड़ी होने वाली इमारत बहुत दिनों तक स्थाई बनी रहे वैसे ही यदि हम योग से संबंधित नियम व सावधानियों को अपने जीवन में उतारते हैं तो हमारे जीवन में होने वाली कई प्रकार की कठिनाइयों का हल अपने आप ही हो जाता है !

अभ्यास क्रम:-

1. किसी योग प्रशिक्षक की देख रेख में ही योगासनों एवं योग क्रियाओं का अभ्यास करना चाहिए !
2. किसी भी योगासन को करें परन्तु मूल अवस्था में लौटते समय क्रिया का क्रम विपरीत ही होना चाहिए, जैसा अंतिम अवस्था में पहुँचने के पहले था !
3. योगाभ्याश क्रमशः और क्रियात्मक रूप से करें तो ज्यादा लाभान्वित होंगे !
4. योगासन एवं समस्त क्रिया करते समय सम्पूर्ण ध्यान अभ्यास पर ही केंद्रित करें !
5. योग क्रिया न ही किसी की देखा देखी करें और न ही किसी को दिखने का प्रयास करें !
6. योगाभ्याश स्व-अर्थ की क्रिया है जैसा करेंगे वैसा लाभ मिलेगा !
7. योगाभ्याश की जो समय-सीमा और गति तय है ! उसी अनुपात में करें, अन्यथा हानि की भी संभावना है !
8. यम नियम के पालन पर विशेष ध्यान दें !
9. कौन-सा योगासनों आपको करना है और कौन-सा नहीं इसका निर्णय सम्पूर्ण ज्ञान के बाद ही लें !
10. किसी भी आसन को एकदम से नहीं करना चाहिए ! पहले हल्के व्यायाम, सूक्स्चम आसन स्थूल आसन या पवन मुक्तासन से संबंधित आसनों को करें ताकि शरीर का कड़ापन समाप्त हो और शरीर नरम बने एवं मांशपेशियों में लचीलापन आये फिर (प्रारम्भिक, मध्यम उच्च, अभ्यास) प्राणायाम एवं ध्यान का कर्म उपयुक्त रहता है !
11. किसी भी आसन को जबर्दस्ती न करें, क्रमशः अभ्यास से ही आसन स्वतः सरल हो जाता है !
12. योग की किसी भी क्रिया के अंत में शवासन करने का ध्यान अवश्य रखें ! स्वासन करने से अभ्यास क्रिया में आया हुआ किसी भी प्रकार का तनाव दूर होकर प्रसन्नता का एहसास होता है !
13. जैसे कोई आसन सामने की तरफ झुकने वाला है तो छड़ीक विश्राम के बाद पीछे की तरफ झुकने वाला आसन (अपनी अवस्था एवं रोग को देखते हुए विवेक का उपयोग अवश्य करें, ऐसा करने से किसी भी प्रकार की विकृति नहीं आती है !) करें !

स्वाश-प्रश्वास:-

1. किसी भी योग क्रिया को करते समय स्वाश-प्रश्वास के प्रति बनाएँ रखे !
2. स्वाश नासिका द्वार से ही भरें, मुख से नहीं !
3. प्रत्येक आसन का अपना एक स्वाश प्रश्वाश का क्रम होता है ! उसका अवस्य ध्यान रखें !

योग अभ्यास के दौरान विशेष बातें :-

https://www.yogadeyy.com/2020/01/precautions-and-rules-while-doing-yoga

1. योग की क्रियाएं पूर्णतः विवेक का उपयोग करते ही करें !
2. पूर्ण विश्वास धैर्य, और सकारत्मकता विचार रखें !
3. मन में ईर्ष्या, क्रोध, जलन, देव्ष और खिन्नता न रखें !
4. नशीले पदार्थों का सेवन एवं गंदी मानसिकता न रखें !
5. यदि किसी आसन के अभ्यास के दौरान परेशानी का अनुभव हो तो योग्य गुरु एवं विवेक का उपयोग करें !
6. गरिष्ठ भोजन, मंसाहार, अत्यधिक वासना एवं देर रात तक जागने जैसी आदतों का त्याग करें !

English Language:-

Precautions and rules while doing yoga
https://www.yogadeyy.com/2020/01/precautions-and-rules-while-doing-yoga

Before beginning yoga practice, seekers have to take care of a lot of rules and precautions, so every seeker must pay attention to the following things. Like when we build a house, we pay special attention to its foundation and make it strong. So that the building standing on it remains permanent for many days, similarly if we remove the rules and precautions related to yoga in our life, then many kinds of difficulties in our life are solved automatically.

Practice sequence:-

1. Yogasanas and yoga activities should be practiced under the supervision of a yoga instructor.
2. Do any yoga asanas but while returning to the original state, the order of action should be the opposite, as it was before reaching the final state.
3. If you do yoga exercises sequentially and functionally, you will get more benefits.
4. Focus all the meditation practice while doing yoga asana and all the activities.
5. Do not perform yoga activities nor do you see anyone, nor try to show anyone.
6. Yoga is an act of self-meaning, just as you will get benefits.
7. The time limit and pace of yoga practice is fixed! Do the same ratio, otherwise there is a possibility of loss too.
8. Pay special attention to following the Yama Rule.
9. Decide which Yogasanas you want to do and which not, only after complete knowledge.
10. Do not do any posture at all. First do light exercises, Sukscham Asanas related to gross postures or Pawan Muktasana so that the stiffness of the body is eliminated and the body becomes soft and flexibility in the muscles then (preliminary, medium high, practice) Pranayama and meditation work are appropriate.
11. Do not force any posture, posture automatically becomes easier by practice.
12. At the end of any yoga action, be sure to do the shavasana. By breathing, any kind of tension that comes in the practice process is removed and one feels happy.
13. As if the posture is leaning towards the front, then posture bending backwards after sticking rest. 

Self-confidence:-

1. While doing any yoga activity, keep it towards Swish-Kavas.
2. Fill the swish nasal door only, not through the mouth.
3. Each posture has its own order of swash questioning. Take care of him regularly.

Special things during yoga practice:-

1. Perform yoga actions completely using discretion.
2. Have complete trust, patience and positivity thoughts.
3. Do not keep jealousy, anger, jealousy, deification and upset in your mind.
4. Do not take narcotics and dirty mindset!
5. If you experience discomfort during the practice of any asana, then use qualified Guru and Vivek.
6. Abandon habits such as rich food, diet, excessive lust and late night waking.

Post a Comment

0 Comments