सूर्य नमस्कार कैसे करे, Surya Namskar kaise kre

https://www.yogadeyy.com/2020/01/surya-namskar-kaise-kre

1.प्रार्थना की मुद्रा मे पँजों को मिलाकर पूर्व दिशा की तरफ सीधे खड़े हो जाएं ! पूरे शरीर को थिथिल कर दें, एवं आगे के अभ्यास के लिए तैयार रहें !

2. दोनों हाथो को ऊपर उठायें ! कंधो की चौड़ाई के बराबर दोनों भुजाओं की दूरी रखें ! सिर और ऊपरी धड़ को यथासम्भव पीछे झुकाएं ! परन्तु भुजा बंध कान की सिद्ध में रखे !
भुजाओं को ऊपर उठाते समय स्वांश लें!

3.सामने की तरफ झुकते हुए दोनों हाथो के पंजो को पैरो के बगल में स्पर्श करते हुए रखें मस्तक को घुटने से स्पर्श कराएं पैरो को सीधा रखे !
सामने की तरफ झुकते हुए स्वाँस छोड़े एवं अधिक से अधिक स्वांश बाहर निकलने के लिए अंतिम स्थित में पेट को संकुचित करें !

4. अब बांये पैर को जितना पीछे ले जा सकते हैं  ले जाएं और बांये घुटने एवं पाद पृष्ठ भाग को जमीन से स्पर्श कराएं ! दांये पंजे को अपनी ही जगह पर दृढ़ रखते हुए घुटने को मोड़े ! भुजाएँ अपने स्थान पर सीधी रहें हाथ के के पंजे एवं दांये पैर का पंजा एक सरल रेख में ही रखे !
इस क्रिया में दोनों हाथ बांये पैर का पादपृष्ठ घुटना एवं दांये पैर के ऊपर शरीर का वजन स्थित रहेगा ! अब सिर पीछे की तरफ उठाएं ! दृस्टि सामने ऊपर की तरफ और शरीर को धनुषाकार बनाये !
बांये पैर को पीछे ले जाते समय स्वाश ले !

5. शरीर का वजन दोनों हाथों पर स्थित करते हुए दांये पैर को सीधा करके पंजे को बांये पंजे के पास रखें ! अब नितंबों को अधिकतम ऊपर की तरफ उठाएं एवं सिर को दोनों भुजाओं के बीच लाएं ! एड़ियां जमीन से ऊपर न उठें और घुटनों की तरफ देखते हुए पैर और भुजाएँ एक सिद्ध में रखें !
दांये पैर को पीछे लाते समय एवं नितम्बों को उठाते समय स्वांश छोड़े !

6. घुटने मोड़ते हुए शरीर को जमीन की तरफ इस प्रकार से झुकाएं की दोनों पादपृष्ठ दोनों घुटनें छाती दोनों हाथों के पंजे एवं ठुड्डी जमीन का स्पर्श करें ! नितम्ब व उदर प्रदेश जमीन से थोड़े ऊपर उठें रहें !
स्वांश को रोककर रखें ध्यान : मणिपूरक चक्र पर !

7. हाथो को सीधा करें ! शरीर के अगले हिस्से सिर छाती और कमर भाग को ऊपर उठाते हुए सिर तथा गर्दन को पीछे की तरफ झुकाएं !
उदार प्रदेश एवं छाती को धनुषाकार बना कर ऊपर उठाते समय स्वांश लें !
https://www.yogadeyy.com/2020/01/surya-namskar-kaise-kre

-:लाभ:-

1. यह प्राण शक्ति प्रदाता है !
2. सूर्य के समान तेजवान बनता है !
3. सूर्य नमस्कार के अभ्यास से सरे शरीर का व्यायाम हो जाता है !
4. सूर्य नमस्कार मानसिक शांति देता है !
5. सूर्य नमस्कार स्मरण शक्ति बढ़ाता है, व तेज की वृद्धि करता है !

English Language:-

  "How to great Sun"

https://www.yogadeyy.com/2020/01/surya-namskar-kaise-kre

1. Combine the legs in the prayer posture and stand straight towards the east. Let the whole body relax, and be ready for further practice!

2. Raise both arms up! Keep the distance of both arms equal to the width of the shoulders. Tilt the head and upper torso back as far as possible! But keep the arm tied in the ear's ear!
Take a breath while raising the arms!

3. While leaning towards the front, keep the paws of both the hands touching the side of the feet and touch the forehead with the knee, keep the feet straight!
Leaving the breath while leaning towards the front and narrowing the abdomen in the last position to get more and more breath out!

4. Now move the left leg as far back as you can and touch the left knee and the foot part of the ground! Keeping the right claw firmly in its place, bend the knee! Keep the arms straight in their place, keep the claws of the hands and the paws of the right feet in a simple line.
In this activity, the foot of both hands, left foot, knee and body weight will be located above the right foot. Now raise your head backwards! View upwards and make the body arched!
Swish while moving the left leg backward!

5. Keeping the body weight on both hands, straighten the right leg and keep the claw near the left claw! Now raise the buttocks upward and bring the head between the two arms. Do not lift the heels above the ground and keep the feet and arms in one position, looking towards the knees.
Release the breath while moving the right leg and lifting the buttocks!

6. Bending the knee, tilt the body towards the ground in such a way that both the foot and both the knees touch the claws and chin ground of both hands. The hip and abdomen should rise slightly above the ground!
Keep your breath in mind: Watch the Manipuraka Chakra!

7. Straighten the hands! Tilt the head and neck backwards while raising the head chest and waist part of the front of the body!
Make a generous area and chest while arching and take a breath while lifting up!

Benefits:- 

1. It is the provider of vital energy!
2. Becomes strong like the sun!
3. The practice of Surya Namaskar gives exercise to the whole body.
4. Surya Namaskar gives mental peace!
5. Surya Namaskar increases memory power, and increases fast!

Post a Comment

0 Comments